जरूरी नहीं की विकास ही हो

मित्रों,

कुछ लोग लिख रहे हैं कि मोदी जी की सरकार का नौवां महिना शुरु हो गया है, हो सकता है विकास पैदा हो ।
जरूरी नहीं की “विकास” ही हो,
हो सकता है कि “प्रगति” हो,
क्योंकि मोदी जी ने कहा है कि,
“बेटी बचाओ”
“बेटी पढ़ाओ”
ये मानसिकता क्यों है कि सिर्फ लड़का ही होगा ?
विश्वास रखो, “प्रगति” , “उन्नति” , “शान्ति” “सम्रद्धि” सब होंगी ।

पति- मेरे सीने में बहुत दर्द हो रहा हैं

पति- मेरे सीने में बहुत दर्द हो रहा हैं, जल्दी से एम्बुलेंस के लिए कॉल लगाओ..

पत्नी- हाँ, लगाती हूँ, अपने मोबाईल का पासवर्ड बताओ..

पति- रहने दो, अब थोडा ठीक लग रहा है, शाम को दिखा देंगे

किसी लड़के को पागल करना हो तो क्या करें..?

किसी लड़के को पागल करना हो तो क्या करें..?
उसे बहुत सारी लड़कियों के फोन नंबर दे दें और…
.
.
.
.
फिर एक ऐसे कमरे में बंद कर दें,
जहां नेटवर्क ही न आता हो..!
और…
.
एक लड़की को पागल करना हो तो क्या करें..?
उसे खूब महंगे कॉस्मेटिक, कपड़े, गहनें दे दें
और…
.
.
.
,
,
,
,
,
फिर एक ऐसे कमरे में बंद कर दें,
जहां शीशा ही न हो..! 🙂

मेरे सीने में बहुत दर्द हो रहा हैं !

पति- मेरे सीने में बहुत दर्द हो रहा हैं, जल्दी से एम्बुलेंस के लिए कॉल लगाओ..

पत्नी- हाँ, लगाती हूँ, अपने मोबाईल का पासवर्ड बताओ..

पति- रहने दो, अब थोडा ठीक लग रहा है, शाम को दिखा देंगे।।।