पुरुष नहीं महापुरुष कहलाता है!

जिस पुरुष ने आज के समय में बीवी, नौकरी,
कारोबार और स्मार्टफोन के बीच में
सामंजस्य बैठा लिया हो, वह पुरुष
नहीं महापुरुष कहलाता है! 🙂 🙂