कुछ नये सपने उसी के, Yaad Shayari

कुछ नये सपने उसी के देखना है फिर मुझे, सो गया हूँ मैं
बहा कर जिसकी यादें आँख से…!!!
`
Kuchh naye sapane usee ke dekhana hai phir mujhe,
So gaya hoon main baha kar jisakee yaadey aankh se…!!

खुशबू की तरह आया वो तेज, Yaad Shayari

खुशबू की तरह आया वो तेज हवाओं में, माँगा था जिसे हमने दिन
रात दुआओं में,
तुम छत पे नहीं आये मैं घर से नहीं निकला, ये चाँद बहुत भटका सावन
की घटाओं में…!!!
`
Khushaboo kee tarah aaya vo tej havaon mein,
Maanga tha jise hamane din raat duaon mein,
Tum chhat pe nahin aaye main ghar se nahin nikala,
Ye chaand bahut bhataka saavan kee ghataon mein।

Yaad Shayari, याद आप को किये बिना

याद आप को किये बिना, Yaad Shayari
तोड़ दो न वो क़सम जो खाई है, कभी कभी याद करलेने मैं क्या बुराई है,
याद आप को किये बिना रहा भी तो नहीं जाता, दिल में जगा अपने ऐसी
जो बनाई है….!!!